कविता संग्रह

कविता मेरा सपना

16 Posts

147 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12769 postid : 7

माँ

  • SocialTwist Tell-a-Friend

ममता और सौहार्द से बनी हुयी है माँ !
कोई कहे कुमाता कोई माता लेकिन है माँ !!
जिसके स्पर्श भर से बेटा प्रसन्न हो उठता है !
जिसके उठने से ही सुरज भी उठता है !!
माँ को देखकर बच्चा पुलकित हो उठता है !
बच्चो को पाकर माँ का रोम-रोम खिल उठता है !!
यौवन मे भी माँ को बेटा लगता प्यारा !
बेटा समझ न पाता मन का है कच्चा !!
सारी दुनिया समझे उसे घोर कपुत !
माँ को लगता बेटा सच्चा,वीर,सपुत !!
माँ शब्द मे है ममता का एहसास !
बरसो है पुराना माँ का इतिहास !!

| NEXT



Tags:       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rishabh786 के द्वारा
February 14, 2013

बहूत सुन्दर


topic of the week



latest from jagran