कविता संग्रह

कविता मेरा सपना

16 Posts

147 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12769 postid : 18

मेरा परिचय

Posted On: 16 May, 2013 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मै कौन हूँ ये नहीं है जरूरी ,
मैंने क्या है पाया
मेरा रंग कैसा है !

मै कैसा हूँ
मै सोचता क्या हूँ
मेरे पास कितना पैसा है !

इन सवालों में ना जायें
की ये किसी फ़िल्म के
विलेन जैसा है !

डिग्री है कितनी
पढ़ाई क्या की
सवाल तो गंवारों जैसा है !

तेरा नाम क्या
कहा से आया
अभी तक क्या-क्या कमाया !

तुम्हारी शादी हुयी की नहीं
ये सभी सवाल तो
चाहने वालो जैसा है !

मै तो शक्ल से काला
बिलकुल काला
काली भैस जैसा हूँ !

अक्ल से तो अल्हड़
मुर्ख और नकचिढ़ा
बिलकुल बैल जैसा हूँ !

डिग्री है पाई मैंने
मुर्ख , भोंदू , अल्हड़
और भी बहूत सारे !

लेकिन कमाई में तो
कुबेर जैसा हूँ !

मेरे लिए तो
कविता , काव्य
और कवि !

ये सभी एक सुन्दर
परिवार जैसा है !



Tags:       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

14 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Sumit के द्वारा
May 18, 2013
    ऋषभ शुक्ला के द्वारा
    May 18, 2013

    शुक्रिया सुमित जी, हमें आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है की आप सब आगे भी हमारा मार्गदर्शन करते रहेंगे. शुक्रिया.

bhagwanbabu के द्वारा
May 18, 2013
    ऋषभ शुक्ला के द्वारा
    May 18, 2013

    शुक्रिया भगवान बाबु जी, हमें आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है की आप सब आगे भी हमारा मार्गदर्शन करते रहेंगे. शुक्रिया.

harirawat के द्वारा
May 17, 2013

rishbh shuklaa, kyaa likhoon likhne ke liye kuchh choda hi nahin hai,apane ko kali bhains, murkh, bhoondu kuber bata kar naya khilab khud le liyaa hai,fir bhi itana kahoongaa, aap ek pragatishil vichaaron ke ek honhar kavi lekhak ho. vyang ke saath ek sandesh achhi prastuti hai.

    ऋषभ शुक्ला के द्वारा
    May 18, 2013

    शुक्रिया हरी रावत जी, हमें आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है की आप सब आगे भी हमारा मार्गदर्शन कसरते रहेंगे. शुक्रिया.

rishabh786 के द्वारा
May 17, 2013

सुन्दर प्रस्तुती ऋषभ जी , बधाई

    ऋषभ शुक्ला के द्वारा
    May 17, 2013

    शुक्रिया रिषभ जी , आशा है आगे भी आप सब हमारा मार्गदर्शन करते रहेंगे. शुक्रिया

aman kumar के द्वारा
May 17, 2013

बहुत अच्छी प्रस्तुती ! …………….. लिखते रहिये ! धन्येबाद !

    ऋषभ शुक्ला के द्वारा
    May 17, 2013

    शुक्रिया अमन कुमार जी, हमें आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है की आप आगे भी इसी तरह हमारा मार्गदर्शन करते रहेंगे. शुक्रिया

PRADEEP KUSHWAHA के द्वारा
May 16, 2013

लेकिन कमाई में तो कुबेर जैसा हूँ ! मेरे लिए तो कविता , काव्य और कवि ! ये सभी एक सुन्दर परिवार जैसा है ! बहुत खूब बधाई

    ऋषभ शुक्ला के द्वारा
    May 17, 2013

    शुक्रिया प्रदीप कुशवाहा जी, इस सुन्दर कमेंट के लिए, आशा है आप आगे भी हमारा इसी तरह मार्गदर्शन करते रहेंगे. शुक्रिया .

priti के द्वारा
May 16, 2013

बहुत सहज अभिव्यक्ति! बधाई! रिषभ जी

    ऋषभ शुक्ला के द्वारा
    May 17, 2013

    शुक्रिया प्रीती जी, इस सुन्दर कमेंट के लिए, आशा है आप आगे भी हमारा इसी तरह मार्गदर्शन करते रहेंगे. शुक्रिया .


topic of the week



latest from jagran