कविता संग्रह

कविता मेरा सपना

16 Posts

147 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12769 postid : 10

गीत

  • SocialTwist Tell-a-Friend


एक दिन मै बैठा गीत लिख रहा था !
दर्द और प्रेम का संगीत लिख रहा था!!
निःशब्द और अक्षर का निर्जन गीत लिख रहा था !
बिना कगज और कलम के एक गीत लिख रहा था !!
निर्जन और विरानी दुनिया की तस्वीर लिख रहा था !
सास बहु के झगङो की उम्मीद लिख रहा था !!
कापते हुये हाथो से इतिहास लिख रहा था !
भारत की आजाती का इन्तकाम लिख रहा था !!
आजाद होकर भी भारत गुलाम हो रहा था !
भारत और पाकिस्तान का संग्राम लिख रहा था !!
रात और दीन की तस्वीर देख रहा था !
सारी दुनिया के एक होने की उम्मीद देख रहा था !!
सब कुछ लिखने के बाद सपनो की उम्मीद लिख रहा था !
अपने सपनो का छोटा सा गीत लिख रहा था !!



Tags:               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (11 votes, average: 4.55 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rishabh786 के द्वारा
May 14, 2013

सुन्दर रचना और बहूत ही प्रभावशाली . धन्यवाद


topic of the week



latest from jagran